Total Pageviews

09 January 2018

अनुकूल मौसम से गेहूं की पैदावार ज्यादा होने का अनुमान

आर एस राणा
नई दिल्ली। भले ही चालू रबी में अभी तक गेहूं की बुवाई पिछे चल रही हो लेकिन अनुकूल मौसम से वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि उत्पादन पिछले साल से ज्यादा ही होने का अनुमान है। कृषि मंत्रालय ने चालू रबी सीजन 2017—18 में गेहूं के उत्पादन का लक्ष्य 975 लाख टन का तय किया है जबकि फसल सीजन 2016—17 में इसका उत्पादन 983.8 लाख टन का हुआ था।
गेहूं अनुसंधान निदेशालय (डीडब्ल्यूआर) के डायरेक्टर जी पी सिंह ने आउटलुक को बताया कि प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्यों में इस समय रात को सर्दी पड़ रही है तथा दिन में धूप भी निकल रही है जोकि गेहूं की फसल के लाभकारी है। सर्दी ज्यादा होने से गेहूं के पौधों में फुटाव ज्यादा होगा, जिसका सीधा असर उत्पादकता पर पड़ेगा। उन्होंने कहां कि चालू रबी में मध्य प्रदेश में गेहूं की बुवाई में जरुर कमी आई है लेकिन उम्मीद है कि जैसे ही बुवाई के फाइनल आंकड़े आयेंगे, गेहूं की बुवाई सामान्य क्षेत्रफल 300 लाख हैक्टेयर से ज्यादा ही हो जायेगी। ​उन्होंने बताया कि अभी तक सभी राज्यों में गेहूं की फसल अच्छी स्थिति में है। ऐसे में माना जा रहा है कि चालू सीजन में कुल उत्पादन पिछले साल से ज्यादा होने का अनुमान है।
कृषि मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार चालू रबी में गेहूं की बुवाई अभी तक 283.46 लाख हैक्टेयर में ही हुई है जब​कि पिछले साल की समान अवधि में इसकी बुवाई 297.67 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी। प्रमुख उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में गेहूं की बुवाई 94.88 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक राज्य में 97.26 लाख हैक्टेयर में बुवाई हो चुकी थी। मध्य प्रदेश में गेहूं की बुवाई घटकर चालू रबी में अभी तक केवल 44.53 लाख हैक्टेयर में ही हुई है, जब​कि पिछले साल इस समय तक 53.81 लाख हैक्टेयर में बुवाई हो चुकी थी। अन्य राज्यों में पंजाब में गेहूं की बुवाई 35.01 लाख हैक्टेयर में, हरियाणा में 25.03 लाख हैक्टेयर में, राजस्थान में 28.86 लाख हैक्टेयर में और गुजरात में 10.45 लाख हैक्टेयर में तथा बिहार में 22.10 लाख हैक्टेयर में गेहूं की बुवाई हो चुकी है। 
खाद्य मंत्रालय के ए​क वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार केंद्रीय पूल में पहली दिसंबर 2017 को गेहूं का 216.65 लाख टन का बकाया स्टॉक बचा हुआ है जोकि पिछले साल की समान अवधि के 164.96 लाख टन से ज्यादा है। तय मानकों के अनुसार पहली जनवरी को केंद्रीय पूल में 108 लाख टन गेहूं का स्टॉक होना चाहिए।


केंद्र सरकार ने रबी विपणन सीजन 2018—19 के लिए गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) बढ़ाकर 1,735 रुपये प्रति क्विंटल तय किया है। केंद्र सरकार ने रबी विपणन सीजन 2017—18 में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर 308.24 लाख टन गेहूं की खरीद की थी जबकि आगामी रबी विपणन सीजन 2018—19 में पैदावार ज्यादा होने के अनुमान से एमएसपी पर खरीद भी पिछले साल से ज्यादा ही होने का अनुमान है।  ....   आर एस राणा

No comments: