Total Pageviews

28 June 2018

एथनॉल की कीमतों में तीन रुपये की बढ़ोतरी, चीनी मिलों को होगा फायदा

आर एस राणा
नई दिल्ली। नकदी के संकट से जूझ रही चीनी मिलों को राहत देने के लिए केंद्र सरकार ने एथनॉल की कीमतों में 3 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी कर दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई आर्थिक मामलों की मंत्रीमडलीय समिति (सीसीईए) ने इसे अपनी मंजूदी दी। केंद्र सरकार द्वारा तीन रुपये की बढ़ोतरी के बाद अब एथनॉल की कीमतें 43.85 रुपये प्रति लीटर हो जायेंगी।
तेल कंपनियों के लिए इस समय 10 फीसदी एथनॉल का मिश्रण अनिवार्य है, तथा तेल कंपनियां चीनी मिलों से एथनॉल की खरीद करती है। एथनॉल का उत्पादन बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार पहले ही चीनी मिलों को 4,500 करोड़ रुपये के ऋण को मंजूरी दे चुकी है। गन्ना किसानों के बकाया भुगतान में तेजी लाने के लिए केंद्र सरकार चालू पेराई सीजन में अभी तक कई कदम उठा चुकी है। इसके तहत जहां केंद्र सरकार ने चीनी के न्यूनतम बिक्री भाव 29 रुपये प्रति किलो तय किए हैं, वहीं 30 लाख टन चीनी का बफर स्टॉक बनाने की मंजूरी भी पहले ही मंजूरी दे चुकी है।
चालू पेराई सीजन में देश में चीनी का रिकार्ड उत्पादन 315 लाख टन से ज्यादा का ही हुआ है जबकि देश में चीनी की सालाना खपत 245 से 250 लाख टन की ही होती है। विश्व बाजार में चीनी के दाम नीचे बने हुए ​हैं जिस कारण हमारे यहां से निर्यात की संभावना भी नहीं है। इसीलिए घरेलू बाजार में चीनी के दाम उत्पादन लागत से काफी नीचे आ गए थे। केंद्र सरकार द्वारा चीनी बिक्री हेतु न्यूनतम दाम 29 रुपये प्रति किलो तय कर देने के बाद से, चीनी के भाव में सुधार आया है। 
सूत्रों के अनुसार चीनी मिलों पर गन्ना किसानों का बकाया अभी भी 19,816 करोड़ रुपये बचा हुआ है, इसमें सबसे ज्यादा हिस्सेदारी उत्तर प्रदेश के किसानों की है। गन्ने का पेराई सीजन समाप्त हो चुका है जबकि चीनी मिलों द्वारा भुगतान नहीं किए जाने से गन्ना किसानों को भारी आर्थिक दिक्कतों को सामना करना पड़ रहा है।.......  आर एस राणा

No comments: