Total Pageviews

27 February 2018

केंद्र सरकार गेहूं पर आयात शुल्क को करेगी दोगुना

आर एस राणा
नई दिल्ली। गेहूं किसानों को उचित भाव दिलाने के लिए केंद्र सरकार इसके आयात शुल्क को 20 फीसदी से बढ़ाकर 40 फीसदी करने पर जल्द फैसला ले सकती हैं। हालांकि इस समय गेहूं के आयात सौदे नहीं हो रहे हैं, लेकिन नई फसल की आवक को देखते हुए केंद्र सरकार कोई जोखिम नहीं लेना चाहती। 

सूत्रों के अनुसार कृषि मंत्रालय ने आयात शुल्क को 20 फीसदी से बढाकर 40 फीसदी करने का प्रस्ताव किया हुआ है। हालांकि चालू रबी में गेहूं की बुवाई में आंशिक कमी आई है लेकिन उत्पादक राज्यों में अभी तक अनुकूल रहा है, तथा फसल की स्थिति अच्छी ​है। गुजरात और महाराष्ट्र में नई फसल की आवक चालू हो गई है, जबकि मार्च में मध्य प्रदेश और राजस्थान में आवक बन जायेगी।

आयातित गेहूं सस्ता

सूत्रों के अनुसार इस समय गेहूं के आयात सौदे नहीं हो रहे हैं, लेकिन दक्षिण भारत के राज्यों में करीब तीन से चार लाख टन आयातित गेहूं का स्टॉक है जबकि अप्रैल में घरेलू मंडियों में गेहूं की नई फसल की आवकों का दबाव बन जायेगा। विश्व बाजार में गेहूं के भाव नीचे बने हुए हैं, ऐसे में माना जा रहा है कि अगर आयात शुल्क में बढ़ोतरी नहीं की गई तो फिर आगे और आयात होने की आशंका है। तुतीकोरन बंदरगाह पर यूक्रेन से आयातित गेहूं के भाव 1,870 से 1,880 रुपये और आस्ट्रेलियाई गेहूं के भाव 2,000 से 2,050 रुपये प्रति क्विंटल है। जबकि उत्तर प्रदेश से बंगलुरु पहुंच गेहूं सौदे 2,075 से 2,100 रुपये प्रति क्विंटल की दर से हो रहे है।

आयात में आई कमी

चालू वित्त वर्ष 2017-18 के पहले 9 महीनों अप्रैल से दिसंबर के दौरान 15.55 लाख टन गेहूं का आयात हुआ है जबकि पिछले वित्त वर्ष 2016—17 की समान अवधि में 20 लाख टन का आयात हुआ था। वित्त वर्ष 2016-17 में गेहूं का कुल आयात 57.49 लाख टन का हुआ था। केंद्र सरकार ने 9 नवंबर 2017 को गेहूं के आयात शुल्क में 10 फीसदी की बढ़ोतरी कर शुल्क 20 फीसदी कर दिया था जबकि मार्च 2017 में गेहूं के आयात पर 10 फीसदी का आयात शुल्क लगाया था।

एमएसपी से नीचे बिक रहा है गेहूं

रबी विपणन सीजन 2018-19 के लिए केंद्र सरकार ने गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 1,735 रुपये प्रति क्विंटल तय किया हुआ है जबकि उत्पादक राज्यों की मंडियों में गेहूं का भाव 1,650 से 1,725 रुपये प्रति क्विंटल है।

गेहूं की बुवाई में आई कमी

कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू रबी में गेहूं की बुवाई 304.29 लाख हैक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसकी बुवाई 317.88 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी। मंत्रालय ने चालू रबी 2017-18 फसल सीजन में गेहूं के उत्पादन का लक्ष्य 975 लाख टन का रखा है जबकि फसल सीजन 2016-17 में गेहूं का उत्पादन 983.8 लाख टन का हुआ था।

एमएसपी पर 320 लाख टन खरीद का लक्ष्य

चालू रबी विपणन सीजन 2018—19 में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर 320 लाख टन गेहूं की खरीद का लक्ष्य तय किया है जबकि पिछले रबी विपणन सीजन में 308.24 लाख टन गेहूं की खरीद हुई थी। जबकि खरीद का लक्ष्य 330 लाख टन का था।

एमएसपी में बढ़ोतरी
पहली अप्रैल से शुरू होने वाले चालू रबी विपणन सीजन 2018—19 के लिए केंद्र सरकार ने गेहूं का एमएसपी 1,735 रुपये प्रति क्विंटल तय किया हुआ है जबकि पिछले रबी विपणन सीजन में एमएसपी 1,625 रुपये प्रति क्विंटल था। ...............  आर एस राणा

No comments: