Total Pageviews

07 February 2018

आयात को हत्तोसाहित करने के लिए चना आयात शुल्क में 10 फीसदी की बढ़ोतरी

आर एस राणा
नई फसल की आवक का दबाव बनने से पहले ही चना की कीमतों में आई गिरावट को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने आयात पर शुल्क में 10 फीसदी की बढ़ोतरी कर शुल्क 40 फीसदी कर दिया है। इससे चना के भाव में हल्का सुधार आया है। मुंबई में आयातित आस्ट्रेलाई चना के भाव 75 रुपये बढ़कर 3,900 रुपये और दिल्ली में 4,050 से 4,100 रुपये प्रति क्विंटल हो गए।
22 दिसंबर 2017 को केंद्र सरकार ने चना के आयात पर 30 फीसदी का आयात शुल्क लगाया था लेकिन इससे कीमतों में सुधार नहीं आया। सूत्रों के अनुसार चना के आयात को हत्तोसाहित करने के लिए चना के आयात शुल्क को 30 फीसदी से बढ़ाकर 40 फीसदी कर दिया है, इसकी अधिसूचना जल्दी ही जारी हो जायेगी।
प्रमुख उत्पादक राज्यों की मंडियों में चना के भाव 3,500 से 4,000 रुपये प्रति क्विंटल है तथा नई फसल की आवक बढ़ने पर इसके भाव में और गिरावट आने का अनुमान है। केंद्र सरकार ने चालू रबी विपणन सीजन 2017—18 के लिए चना का न्यनूतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 4,400 रुपये प्रति क्विंटल (बोनस सहित) तय किया हुआ है। जानकारों के अनुसार आस्ट्रेलिया में चना का उत्पादन 10.50 लाख टन होने का अनुमान है तथा इसमें से 70 से 80 फीसदी का आयात भारत  में होने का अनुमान है। ऐसे में माना जा रहा है कि आस्ट्रेलिया से आयातित चना की कीमतों में गिरावट आ सकती है।
आयात में बढ़ोतरी
वित्त वर्ष 2016—17 में चना का आयात 10.80 लाख टन का हुआ था जबकि ​इसके पिछले वित्त वर्ष 2015—16 में चना का आयात 10.31 लाख टन का ही हुआ था। चालू वित्त वर्ष 2017—18 के पहले पांच महीनों अप्रैल से अगस्त के दौरान 3.39 लाख टन चना का आयात हो चुका है।
बुवाई में भारी बढ़ोतरी
चालू रबी सीजन में चना की बुवाई में भारी बढ़ोतरी हुई है। कृषि मंत्रालय के अनुसार चना की बुवाई बढ़कर 107.24 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसकी बुवाई केवल 99.04 लाख हैक्टेयर में ही हुई थी।
उत्पादन अनुमान ज्यादा
कृषि मंत्रालय ने फसल सीजन 2017—18 में चना के उत्पादन का लक्ष्य 97.5 लाख टन का तय किया है जबकि इसके पिछले साल 2016—17 में चना का उत्पादन 93.3 लाख टन का हुआ था।
नई फसल की आवक शुरू
चना की नई फसल की आवक कर्नाटका, आंधप्रदेश और महाराष्ट्र में शुरू हो गई है तथा चालू महीने के आखिर तक मध्य प्रदेश में भी नई फसल की आवक बन जायेगी। राजस्थान और उत्तर प्रदेश में चना की नई फसल अप्रैल महीने में आयेगी। चालू रबी सीजन में चना की बुवाई में भारी बढ़ोतरी हुई है तथा अभी तक मौसम भी फसल के अनुकूल बना हुआ है। ऐसे में माना जा रहा है कि चना का रिकार्ड उत्पादन होने का अनुमान है। .............  आर एस राणा

No comments: