Total Pageviews

14 July 2017

धान की रौपाई के साथ ही कपास और दलहन की बुवाई बढ़ी

आर एस राणा
नई दिल्ली। चालू खरीफ में धान की रौपाई के साथ ही कपास और दलहन बुवाई आगे चल रही है जबकि मोटे अनाजों की बुवाई पिछड़ रही है। कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू खरीफ में फसलों की बुवाई बढ़कर 563.17 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल की समान अवधि में 521.80 लाख हैक्टेयर में ही बुवाई हुई थी।
खरीफ की प्रमुख फसल धान की रौपाई बढ़कर चालू रबी में 125.77 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल की समान अवधि में 120.32 लाख हैक्टेयर में रौपाई ही हो पाई थी। दलहन की बुवाई चालू रबी में बढ़कर 74.61 लाख हैक्टेयर में ही चुकी है जबकि पिछले साल की समान अवधि में दालों की बुवाई 60.28 लाख हैक्टेयर में ही बुवाई हो पाई थी। चालू खरीफ में अरहर की बुवाई पिछड़ रही है, जबकि मूंग के साथ ही उड़द की बुवाई आगे चल रही है।
तिलहनों की बुवाई चालू खरीफ में घटकर 103.87 लाख हैक्टेयर में ही पाई है जबकि पिछले साल की समान अवधि में तिलहनों की बुवाई 115.75 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी। तिलहनों में जहां सोयाबीन के साथ ही मूंगफली की बुवाई भी पिछड़ रही है। मोटे अनाजों की बुवाई चालू रबी में बढ़कर 113.06 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है तथा पिछले साल इस समय तक 98.79 लाख हैक्टेयर में ही बुवाई हुई थी। मोटे अनाजों में बाजरा के साथ ही ज्वार की बुवाई में तो बढ़ोतरी हुई है लेकिन मक्का की बुवाई पिछे चल रही है।
कपास की बुवाई चालू रबी में बढ़कर 90.88 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक केवल 73.93 लाख हैक्टेयर में ही कपास की बुवाई हो पाई थी। गन्ने की बुवाई भी चालू सीजन में बढ़कर 47.94 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक 45.22 लाख हैक्टेयर में ही गन्ने की बुवाई हो पाई थी।...........आर एस राणा

No comments: