Total Pageviews

30 May 2017

जीरा के उत्पादन में कमी और धनिया, हल्दी, जीरा उत्पादन में बढ़ोतरी संभव

आर एस राणा
नई दिल्ली। चालू फसल सीजन 2016-17 में जहां जीरा के उत्पादन में कमी आने की आशंका है, वहीं धनिया, हल्दी, इलायची और लालमिर्च की पैदावार ज्यादा होने का अनुमान है। कृषि मंत्रालय के बागवानी विभाग द्वारा जारी दूसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार जीरा की पैदावार चालू फसल सीजन 2016-17 में घटकर 4,86,000 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल जीरा का उत्पादन 5,03,000 टन का हुआ था।
मंत्रालय द्वारा जारी दूसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार धनिया का उत्पादन बढ़कर चालू सीजन 2016-17 में 6,09,000 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल धनिया का उत्पादन 5,85,000 टन का हुआ था। इसी तरह से लालमिर्च का उत्पादन भी चालू फसल सीजन में बढ़कर 18,72,000 टन होने का होने का अनुमान है जबकि पिछले साल लालमिर्च का उत्पादन 15,20,000 टन का ही हुआ था। दूसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार हल्दी का उत्पादन बढ़कर 10,52,000 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल हल्दी का उत्पादन 9,43,000 टन का ही हुआ था।
अनुकूल मौसम से चालू फसल सीजन 2016-17 में इलायची का उत्पादन बढ़कर 27,000 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल इसका उत्पादन 24,000 टन का ही हुआ था। अजवायन का उत्पादन चालू फसल सीजन में घटकर 14,000 टन ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल अजायन का उत्पादन 16,000 टन का हुआ था।
तेज पत्ता का उत्पादन चालू सीजन 2016-17 में पिछले साल के लगभग बराबर ही 5,000 टन होने का अनुमान है। कालीमिर्च का उत्पादन चालू फसल सीजन 2016-17 में बढ़कर 72,000 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल इसका उत्पादन 55,000 टन का ही हुआ था। लौंग का उत्पादन चालू सीजन में पिछले साल के लगभग बराबर ही 1,000 टन होने का अनुमान है।
मंत्रालय के अनुसार मैथी का उत्पादन चालू फसल सीजन 2016-17 में घटकर 2,20,000 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल मैथी का उत्पादन 2,47,000 टन का हुआ था। सौंफ का उत्पादन भी चालू फसल सीजन में घटकर 1,25,000 टन ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल सौंफ का उत्पादन 1,29,000 टन का हुआ था। जायफल का उत्पादन चालू फसल सीजन 2016-17 में बढ़कर 16,000 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल इसका उत्पादन 14,000 टन का ही हुआ था। इमली का उत्पादन भी चालू फसल सीजन में घटकर 1,91,000 टन ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल इसका उत्पादन 1,94,000 टन का हुआ था।  ......आर एस राणा

No comments: