Total Pageviews

11 May 2017

सोयाबीन का 45 लाख टन से ज्यादा स्टॉक मौजूद-सोपा

आर एस राणा
नई दिल्ली। पैदावार ज्यादा होने के कारण इस समय प्रमुख उत्पादक राज्यों मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान में करीब 45.91 लाख टन सोयाबीन का स्टॉक बचा हुआ है। सोयाबीन की नई फसल अक्टूबर में आयेगी, चालू सीजन में भी भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने मौसम अनुकूल रहने का अनुमान जताया है, ऐसे में जून के बाद सोयाबीन की कीमतों में मंदा आने का अनुमान है।
इंदौर मंडी में सोयाबीन के भाव 3,000 से 3,055 रुपये, मध्य प्रदेश की मंडियों में इसके भाव 2,800 से 3,000 रुपये प्रति क्विंटल रहे। राजस्थान की कोटा मंडी में सोयाबीन के भाव 2,950 रुपये प्रति क्विंटल रहे। इंदौर मंडी में सोया रिफाइंड तेल के भाव 630 से 632 रुपये प्रति 10 किलो रहे। इंदौर मंडी में सोया डीओसी के भाव 25,000 रुपये और कोटा मंडी में 25,200 रुपये प्रति टन रहे।
सोयाबीन प्रोससेर्स एसोसिएशन आफ इंडिया (सोपा) के अनुसार चालू सीजन में सोयाबीन का उत्पादन 114.91 लाख टन का हुआ है जबकि नई फसल के समय 4.41 लाख टन का बकाया स्टॉक बचा हुआ था, ऐसे में कुल उपलब्धता 119.32 लाख टन की बैठी है। माना मा जा रहा है कि चालू खरीफ में करीब 12 लाख टन सोयाबीन की बीज में खपत होगी, ऐसे में क्रेसिंग के लिए कुल 107.32 लाख टन सोयाबीन की उपलब्धता रहेगी।
चालू सीजन में अक्टूबर-16 से अप्रैल-17 तक उत्पादक मंडियों में 59 लाख टन सोयाबीन की आवक हो चुकी है तथा उत्पादक राज्यों में 45.91 लाख टन सोयाबीन का स्टॉक बचा हुआ है। सोया रिफाइंड तेल और सोया डीओसी में मांग कमजोर होने से आगामी महीनों में सोयाबीन की खपत कम होगी, ऐसे में जून में आईएमडी ने सामान्य मानसून की भविष्यवाणी कर दी तो फिर सोयाबीन में बिकवाली बढ़ सकती है, जिससे इसके भाव में आगे गिरावट बन सकती है।
चालू तेल वर्ष 2016-17 के अक्टूबर-16 से अप्रैल-17 के दौरान 12.65 लाख टन सोया डीओसी का निर्यात हो चुका है तथा इस दौरान घरेलू बाजार में इसकी खपत 28.75 लाख टन की हुई है जबकि इस दौरान सोया डीओसी का कुल उत्पादन 44.55 लाख टन का हो चुका है। ..............   आर एस राणा

No comments: